• Kanika Chauhan

माँ-बाप

इस खुबसूरत सी दुनिया में, प्यारी सी मुस्कान है वो।

कहने को इंसान है, पर मेरे तो भगवान है वो।

माँ-बाप जिन्हें कहती है दुनिया, मेरे जीवन का वरदान है वो।

बंसत की बहार में छाए, फूलों की महक से है वो।

तेज दुपहरी धूप में, बरसात की फुहारों से वो।

मेरी हर एक ख्वाहिश को , खुदा से पहले मंजूर करते हैं वो।

मेरी जिंदगी में मेरी किताबों से है वो, निराश सी इस जिंदगी में,

मेरे लिए आशा की किरण से है वो। जिंदगी मेरी है, पर

इस जिंदगी के कर्णधार है वो। देखती हूँ मैं जो सपने,

उन सपनो के मझधार है वो। कहती है जिन्हें दुनिया माँ-बाप,

मेरे जीवन के आधार, मेरी जिंदगी का सार है वो।

#slider

1 view0 comments

Subscribe to Our Newsletter

  • Facebook
  • Twitter
  • Instagram