• Kanika Chauhan

मां!! तुम्हें भी हक है जीने का

“माँ, तुम रो रही थी ना।” जसप्रीत ने अनीता जी से कहा। “अरे नही बेटू, वो प्याज़ काट रही थी ना, इसीलिए आँखे जरा सी लाल हो गयी।” अनीता जी किसी अपराधी की भांति नजरे छुपाते हुए बोली।

“माँ, क्यों छुपा रही हो मुझसे, पापा के जाने का दर्द हर दिन तुम्हारी आँखों में दिखाई देता है मुझे। कब तक माँ…

2 साल हो गए उन्हें हमसे दूर गए, कोई दिन ऐसा नहीं गया जब तुम्हारे दुपट्टे को आंसुओं से भीगा न देखा हो। माँ तुम चलो मेरे साथ।” जसप्रीत ने कहा।

“तू पागल है क्या? तेरे ससुराल वाले क्या कहेंगे, तेरे नाना जब भी मेरे यहां आते थे पानी भी नही पीते थे अपनी बेटी के घर का। तू मुझे अपने ससुराल रहने की बात कर रही है। यहां सब है बेटा, तेरे पापा का प्यार, उनकी यादें, कहां हूँ मैं अकेली?” अनीता जी ने जसप्रीत के सर पर हाथ फेरते हुए कहा।

जसप्रीत समझ गई थी कि माँ को समझाना इतना आसान नहीं था, पर माँ धीरे ही धीरे सिमटती जा रही है अपने आप में, 30 साल जिस हमसफर के साथ बिताए वो जब तन्हा छोड़ जाए तो जिंदगी इतनी आसान तो नहीं होती। जसप्रीत के साथ अनुज ने भी कई बार कहा कि वो उनके साथ रहने आ जाये, पर अनीता जी का जवाब हमेशा वही होता।

“कब आयी तुम, कैसी है मम्मी की तबियत अब। “अनुज घर पर आए तो देखा जसप्रीत सोफे पर औंधे मुंह लेती है, उसके सर पर हाथ फिराते हुए उसने पूछा। न चाहते हुए भी जसप्रीत फफक कर रो पड़ी। अनुज ने उसे सहला कर शांत किया। “अनुज, माँ कही गुम सी हो गयी है, चुप….खामोश। उनकी ये चुप्पी मुझे अंदर ही अंदर डरा देती है। मुस्कान का लबादा ओढ़े कितना दर्द उनमें भरा है क्या मैं समझती नही। कभी-कभी मुझे बहुत गुस्सा आता है इस समाज पर, जहाँ बेटी को इस कदर पराया कर दिया जाता है, आज अगर मैं बेटा होती तो क्या माँ मेरे साथ नहीं रह सकती थी। वो कहती है कि मेरी गृहस्थी हमेशा खुशहाल रहे इसीलिए वो मेरे साथ नहीं रह सकती। मम्मी जी, पापा जी भी तो इस बारे में कुछ नहीं बोल रहे, वो क्या समझती नही।” जसप्रीत आंखों में आंसू लिए बोली।

“जसप्रीत हम कुछ नहीं कर सकते, वो बड़े लोगों की सोच है वो इतनी आसानी से नहीं बदलने वाली।” अनुज तो क्या मैं माँ को यू ही अकेलेपन का दंश भुगतने के लिए छोड़ दूं, नहीं अनुज ये अकेलापन डस लेगा उन्हें किसी दिन। अनुज की बात बीच में ही काट जसप्रीत बोली।

2 साल हो गए थे अनिल जी का स्वर्गवास हुए। जसप्रीत अपने माँ-पापा की इकलौती बेटी थी। अनीता जी ने अपने आप को उन दोनों में इस कदर व्यस्त कर लिया कि उनकी जिंदगी सिर्फ उन 2 लोगों के बीच ही सिमट कर रह गयी। 3 साल पहले उन्होंने जसप्रीत की शादी की तो उनके पति उनका इकलौता सहारा थे पर शायद होनी को कुछ और ही मंजूर था, एक रात अनिल जी ऐसा सोये कि अगले दिन उठ ही न पाए।

जसप्रीत अगली सुबह अखबार पढ़ रही थी कि उसकी नजर एक खबर पर गयी औऱ ठिठक गयी, हज़ारों ख्याल उसके मन मे उमड़ने लगे, दूसरे ही पल उसका हाथों की अंगुलिया लैपटॉप पर चलने लगी। पूरा दिन इसी उधेड़बुन में रहा कि क्या जो वो सोच रही है सही है? अगले दिन उसने एक दृढ निश्चय लिया औऱ उसकी अंगुलिया फिर से लैपटॉप पर थी। “जसप्रीत लगता है तुम्हारा दिमाग फिर गया है, तुम होश में तो हो” अनुज ने गुस्से में कहा।

“हां अनुज, मैं पूरे होशोहवास में हूँ। किसी के जाने से ज़िन्दगी खत्म तो नहीं होती न अनुज, जीना तो फिर भी पड़ता है चाहे हर दिन घुट-घुट कर जिओ या रो कर जिओ,क्यों क्या किसी इंसान को हक़ नही खुश रहने का अपनी ज़िंदगी फिर से शुरू करने का, क्या बुराई है इसमें। अनुज जिंदगी बहुत छोटी है पर जिंदगी में कुछ मोड़ ऐसे भी आते है जब जिंदगी पहाड़ सरीखी हो जाती है, जीना भी मुश्किल लगने लगता है। रही बात समाज की तो जिस समाज की हम परवाह करते है उसे हमारी कितनी परवाह है।

2 साल हो गए पापा को गए, किसने क्या किया? अनुज मुझे इस समाज की नहीं मेरी माँ की परवाह है। मैं अपनी माँ की जिंदा लाश की तरह नहीं देख सकती। अब ये तुम पर है कि तुम मेरा साथ निभाते हो या नही।” जसप्रीत ने कहा।

अनुज कई दिन इसी उधेड़बुन में लगा रहा फिर उसे अहसास हुआ कि ये कदम तो जसप्रीत के लिए भी आसान नहीं फिर भी वो अपनी माँ के लिए कर रही है क्या वो उसका साथ नही निभा सकता। “जसप्रीत मैं तुम्हारे साथ हूँ।” अनुज ने कहा तो जसप्रीत ने उसे गले से लगा लिया।

“अनुज, ये प्रोफाइल देखो, ये सुनील श्रीवास्तव है, रिटायर्ड बैंक मैनेजर है, इनकी बीवी की 3 साल पहले कैंसर से मौत हो गयी थीं इनके 2 बेटे है जो कि अलग-अलग जगह सेटल है। मुझे इनका प्रोफाइल बहुत अच्छा लगा तुम बात करो ना।” जसप्रीत ने कहा।

अनुज ने फ़ोन पर उनसे बात की। अगले ही दिन अनुज और जसप्रीत ने उनसे मुलाकात की, उन्हें वो काफी पसंद आये। माँ की तरह वो भी अकेलपन का दंश भोग रहे थे और किसी एक साथी की तलाश में थे जो उनके इस अकेलेपन को दूर कर सके।

अगला कदम माँ को मनाने का था, जसप्रीत जानती थी ये इतना आसान नही है पर फिर भी जो कदम उसने उठाया वो पीछे हटने वाली नही थी। “माँ, देखो मैंने आर्ट ऑफ लिविंग क्लासेस में तुम्हारा नाम लिखवा दिया है कल से तुम्हे वहाँ जाना है।” जसप्रीत ने कहा।

“जसप्रीत तू ये सब क्या करती रहती है मैं कही नहीं जाने वाली” माँ बोली। “माँ मैंने फीस भर दी है और ड्राइवर को भी बोल दिया तुम कल सुबह 7 बजे तैयार रहना।” जसप्रीत ने कहा और अनीता जी के पास जाने के अलावा और कोई चारा भी नहीं रह गया।

अनुज औऱ जसप्रीत को पता था कि सुनील जी आर्ट ऑफ लिविंग में इंस्ट्रक्टर भी है इसीलिए उन्होंने ये तरीका अपनाया अगले ही दिन से अनीता जी आर्ट ऑफ लिविंग में जाने लगी। धीरे-धीरे उनका मन वहाँ रम गया। वहाँ जा कर वो खुद को बहुत प्रफुल्लित महसूस करती। 6 महीने में वो उनकी दिनचर्या का हिस्सा बन गया। वहाँ सभी सदस्यों के साथ वो घुल मिल गयी। सुनील जी का स्वभाव ऐसा था कि दोस्त बनाते उन्हें समय नही लगा। बातों ही बातों में सुनील जी को पता चला कि अनीता जी को कवितायें लिखने का बड़ा शौक है पर शादी के बाद उन्होंने इस शौक को ठंडे बस्ते में डाल दिया। उन्होंने अनीता जी को कई किताबें भेट की औऱ फिर से लिखने को प्रोत्साहित किया।

“अनीता जी, मेरे पास लिटरेचर फेस्टिवल के 2 टिकेट्स है क्या आप चलेंगी।” सुनील जी ने कहा। अनीता जी एक बार ठिठकी पर अगले ही पल उन्होंने हां कर दी। अगले दिन जब वो लिटरेचर फेस्टिवल से लौटी तो बड़ी खुश थी।

“पता है सोनू, कितने जाने माने कवि आये थे, जिनको हम TV में देखते है वो सामने बैठे थे औऱ एक से बढ़कर एक किताबें।”

माँ बोलती जा रही थी और जसप्रीत मन ही मन मुस्कुराते हुए उनके खिले हुए चेहरे को देख रही थी, इसी मुस्कान को देख एक आंसू जसप्रीत की आंखों से बह निकला, खुशी का आँसू। इसी बीच सुनील जी और अनीता साथ में लाइब्रेरी भी जाते जहां वो किताबें पढ़ते और उन पर चर्चा भी करते।

“शायद अब समय आ गया है जब हमें मम्मी से बात कर लेनी चाहिये।” अनुज ने कहा तो जसप्रीत ने हां में सर हिला दिया।

“जसप्रीत तुम होश में तो हो, क्या कह रही हो। फिर से शादी वो भी इस उम्र में, पागल तो नहीं हो गयी हो, एक बार भी सोचा कि दुनिया क्या कहेगी और अनुज इसकी बेवकूफी में तुम भी शामिल हो गए।” अनीता जी ने गुस्से से कहा।

“माँ शांत हो जाओ, गलत क्या है इसमें, पापा को गए 3 साल हो गए है, मेरे साथ तुम रह नहीं सकती,

गलत क्या है इसमें क्या? क्या तुम्हें खुश रहने का हक़ नहीं। कब तक तुम यूं रहोगी माँ, क्यों तुम्हें जीने का हक़ नहीं, खुश रहने का हक़ नही। सुनील जी बहुत अच्छे इंसान है माँ, तुम खुश रहोगी।” जसप्रीत ने कहा।

“सुनील जी?” अनीता जी चौक गयी, अब शायद उन्हें सब समझ में आ गया। उन्होंने कमरे का दरवाजा बंद कर लिया और अनुज और जसप्रीत की जाने को कहा।

फ़ोन की घंटी बज रही थी, सामने कॉल पर सुनील जी थे वो फ़ोन रखना चाहती थी कि उन्होंने कहा कल वो उन्हें लाइब्रेरी के बाहर मिले।

अगले दिन न चाहते हुए भी वो गयी।

“मुझे पता है आप नाराज है। आपकी नाराजगी भी जायज है पर आप ही बताए कि गलत क्या है अगर 2 लोग अपनी एक नई जिंदगी शुरू करना चाहते है। आप और मैं तो एक ही दर्द से गुजर रहे है, कुछ न सही पर शायद वो दर्द का रिश्ता हमारे बीच है ही फिर भी मैं हमेशा आपके निर्णय का स्वागत करूंगा। अच्छा मैं चलता हूँ।” सुनील जी ने कहा और चले गए।

अनीता जी को कई रातों तक नींद नहीं आई। कुछ दिन बाद वो फिर से अपने सेंटर गयी, लाइब्रेरी भी गयी, पर वो चेहरा जिसकी उन्हें तलाश थी, नहीं मिला। अगले दिन सुनील जी ने फ़ोन पर एक जाना पहचाना नंबर देखा ये नंबर अनीता जी का था। अगले ही पल उनके चेहरे पर मुस्कान आ गयी।

आज से आप दोनों पति पत्नी है। मैरिज रजिस्ट्रार के आफिस में अनीता जी और सुनील जी ने एक दूसरे को वरमाला पहनाई। सुनील जी के दोनों बेटो ने और अनुज जसप्रीत ने भी रजिस्टर में बतौर गवाह दस्तखत किए।

जसप्रीत ने अपनी माँ के हाथ में कुछ थमाया, ये सिंदूर की डिबिया थीं। माँ की आंखे छलछला आयी।

“पापा, आप माँ की मांग में सिंदूर नहीं भरेंगे।” जसप्रीत ने पूछा।

अनीता जी का चेहरा सिंदूर की लालिमा से चमचमाने लगा।

दोस्तो, जिंदगी दूसरा मौका हर किसी को नहीं देती, लेकिन अगर दे तो उसे अपने हाथ से नहीं जाने देना चाहिए। मेरी ये कहानी प्रेरित है संहिता अग्रवाल की कहानी से, जिन्होंने अपनी माँ की दूसरी शादी करवाने का जज्बा दिखाया।

जिंदगी थमने का नाम नहीं चलने का नाम है। कई बार हम ये सोच के डर जाते है कि लोग क्या कहेंगे, समाज क्या कहेगा? क्यों…. आखिर क्यों, जब हम गलत नहीं है तो ये सोचने की जरूरत क्यों है। तो दोस्तों अपनी दिल की भी सुनिए।

#slider

0 views

Subscribe to Our Newsletter

  • Facebook
  • Twitter
  • Instagram