• Kanika Chauhan

प्राकृतिक खूबसूरती से भरपूर है महाराष्ट्र…

“देश-गाँव-शहरों-कस्बों से अनुभव का हर पृष्ठ भरूँ….

दिल में यही तमन्ना है सारी दुनिया की सैर करूँ!!!

अगर आपकी भी तमन्ना है सारी दुनिया की सैर करने की तो हम आपको हर खूबसूरत जगह के बारे में बताएगें बस आप हमारे लेख को पढ़ते जाए और आपने शौक को पूरा करते जाए। भारत के पश्चिम की खूबसूरती को और घुमने का शौक भी रखते है तो महाराष्ट्र से और अच्छा क्या होगा। महाराष्ट्र की यात्रा किसी भी सैलानी को भारत के पश्चिमी भाग की खूबसूरती को जानने का मौका देती है।

महाराष्ट्र भारत का तीसरा सबसे बड़ा राज्य है जिसमें मुख्य रुप से दो भू-आकृतियां हैं और इनमें प्राकृतिक सुंदरता के तौर पर बहुत कुछ पेश करने को है। कोंकण की तटीय पट्टी और डेक्कन पठार, ये दो ऐसी प्रकार की ज़मीनें हैं जो इस क्षेत्र में कई सुंदर जगहें बनाती हैं। इस राज्य की सीमा आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, गुजरात, गोवा और कर्नाटक से लगी हुई है। इससे सैलानियों के लिए महाराष्ट्र और उसके आसपास घूमने के लिए कई जगहों के विकल्प मौजूद हैं। अपने सभी आकर्षणों के साथ महाराष्ट्र का एक ऐसा आभा मंडल है जिसे अनदेखा करना मुश्किल है।

इस राज्य का इतिहास बहुत गौरवशाली रहा है और इस क्षेत्र के कब्जे को लेकर कई बार बड़ी लड़ाईयां लड़ी गईं हैं और बहुत खून बहा है। मुगलों की हमेशा से इस क्षेत्र पर कब्जे की ख्वाहिश रही पर वो शायद ही सफल हो पाए। पहले मराठा शासक शिवाजी हमेशा से ही एक महान व्यक्तित्व रहे और इस बहादुर योद्धा जाति के अगुवा भी रहे। शिवाजी ने ब्रिटिशों की रातों की नींद बहुत उड़ाई।

इसकी व्यापार समर्थक छवि और बॉलीवुड की प्रसिद्धि अक्सर महाराष्ट्र के पर्यटन आकर्षणों पर भारी पड़ती है। लेकिन महाराष्ट्र में पर्यटन आकर्षणों का बहुत बड़ा खज़ाना है जिसके लिए लोग इस राज्य का दौरा करते हैं।

राज्य में अजंता और एलोरा में दो विश्व विरासत स्थल हैं जो हमेशा से पर्यटकों का मन मोह लेते हैं। अगर आप तीन हज़ार साल पहले धर्म और इंसानी कल्पना को चित्रों और मूर्तियों के रुप में उकेरा हुआ देखना चाहते हैं तो अजंता की यात्रा करनी तो बनती है न।

महाराष्ट्र राज्य भारत के पश्चिमी भाग में है और भारत का एक महत्वपूर्ण औद्योगिक राज्य भी है। राज्य में कई मशहूर पर्यटन स्थल हैं और ट्रांसपोर्ट का शानदार नेटवर्क महाराष्ट्र में पर्यटन के विकास को और बढ़ाता है। आब सवाल ये भी है कि महाराष्ट्र कैसे पहुंच सकते है ? तो आपको मदद करेगा यह जानने में कि आप राज्य में हवाई मार्ग, सड़क और रेल से आसानी से कैसे पहुंचें। इस राज्य की भौगोलिक स्थिति सामरिक तौर बहुत महत्वपूर्ण है और राज्य में हवाई, सड़क, रेल और समुद्री संचार व्यवस्था है। इसके आधुनिक संचार ने इस राज्य को देश में उभरने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

अगर आप हवाई मार्ग से जाते है तो आपको बता दें कि राज्य की राजधानी मुंबई में दो हवाई अड्डे हैं, एक छत्रपति शिवाजी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा और दूसरा सांता क्रूज घरेलू हवाई अड्डा। सभी निजी और सरकारी एयरलाइंस जैसे एयर इंडिया, इंडियन एयरलाइंस, स्पाइस जेट, एयर डेक्कन नियमित तौर पर मुंबई से उड़ानें संचालित करती हैं।

वहीं अगर आप रेल से जाए तो मुंबई में राज्य का सबसे प्रमुख रेलवे स्टेशन है। बड़ी संख्या में महत्पूर्ण रेलें इस शहर को देश के अन्य शहरों और राज्यों से जोड़ती हैं। यहां के पर्यटन स्थलों में या उनके आसपास भी कई प्रमुख रेलवे स्टेशन हैं।

अब अगर आप सड़क के रास्ते जाए तो राष्ट्रीय राजमार्ग 17 और राष्ट्रीय राजमार्ग 6 महाराष्ट्र को देश के बाकी हिस्सों से जोड़ते हैं। राज्य का सड़क नेटवर्क बहुत बेहतरीन है। इसके अलावा कई राष्ट्रीय राजमार्ग और राज्य राजमार्ग हैं जो पूरे राज्य में फैले हैं और महाराष्ट्र के किसी भी शहर से देश के किसी भी हिस्से में पहुंचने में मदद करते हैं। महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम कई बसें चलाता है जो सभी शहरों को देश भर से जोड़ती हैं।

महाराष्ट्र में शॉपिंग

अब कहीं धूमने जाए और खरीदारी न करें तो कुछ अधूरा सा लगता है तो जहीर सी बात है आप शॉपिंग भी करेंगे। तो हम आपको ये भी बता दें कि महाराष्ट्र में खरीददारी के लिए मुंबई सबसे अच्छी जगह है। भारत में खरीददारी के शौकीनों के लिए यह जगह सबसे उपयुक्त है क्योंकि यहां आप को सब कुछ मिलेगा। हालांकि आप इस राज्य की दूसरी जगहों पर भी खरीददारी कर सकते हैं, जैसे औरंगाबाद। महाराष्ट्र क्षेत्र में हस्तशिल्पों की एक समृद्ध विरासत है इसलिए यहां खरीददारी का अपना मज़ा है। अगर आप कपड़ों के शौकीन हैं तो कुछ खास वैराइटी के लिए महाराष्ट्र एक आदर्श स्थान है। खासकर औरंगाबाद क्षेत्र अपने 2000 साल पुराने पैठनी साड़ी की बुनाई के लिए मशहूर है। क्योंकि मुंबई राजधानी है और भारत का एक महानगर भी है इसलिए आपको यहां दूसरे क्षेत्रों की खासियतें भी मिल जाएंगीं।

आपको लगभग पूरे राज्य में कहीं भी निजी दुकानें और सरकारी एंपोरियम मिल जाएंगे। मुंबई जैसे शहरों में पॉश शापिंग मॉल और डिपार्टमेंटल स्टोर बड़ी संख्या में हैं। आप अच्छे दामों पर केजुअल कपड़े एमजी रोड के ‘फैशन स्ट्रीट’ से खरीद सकते हैं।

पर्यटन स्थलों पर आपको कई निजी दुकानें भी मिल जाएंगी। यदि आप कुछ मेहनत करें तो लोकल कारीगरों के कारखानों पर भी जा सकते हैं, जैसे पैठनी साड़ी और हिमरु साड़ी के कारखानों पर।

महाराष्ट्र में देखने के लिए

शिर्डी यात्रा, खंडाला यात्रा, माथेरान यात्रा, मुंबई यात्रा, नागपुर यात्रा, पंचगनी यात्रा, महाबलेश्वर यात्रा, लोनावला यात्रा, पुणे यात्रा, अजंता यात्रा, एलोरा यात्रा। महाराष्ट्र में किले, महाराष्ट्र में गुफाएं, महाराष्ट्र में समुद्र तट, महाराष्ट्र में हिल स्टेशन, महाराष्ट्र में मंदिर, महाराष्ट्र में संग्रहालय, महाराष्ट्र में ज्योतिर्लिंग, मनोरंजन स्थल, महाराष्ट्र में झीलें और नदियां। तो आइए जानते है इनके बारे में….

मुंबई

मुंबई महाराष्ट्र का राजधानी शहर है। यह शहर लोगों के सपने पूरे करने के लिए जाना जाता है और यही कारण है कि लोग इसे ‘ड्रीम सिटी ऑफ इंडिया’ भी कहते हैं। मुंबई भारत की वित्तीय राजधानी भी है। यहां देखने लायक जगहों में गेटवे ऑफ इंडिया, हैंगिंग गार्डन, महालक्ष्मी मंदिर, हाजी अली दरगाह, मरीन ड्राइव, जुहू बीच और चैपाटी शामिल हैं। मुंबई शहर बॉलीवुड का गढ़ भी है। नए बने बांद्रा-वर्ली सी लिंक पर रात में ड्राइव आपको लंबे समय तक याद रहेगी।

एस्सेल वल्र्ड देश में बच्चों द्वारा सबसे ज्यादा देखी जाने वाली जगह है। यहां के प्रवेश के लिए टिकट बच्चों और बड़ों के लिए अलग अलग दाम के हैं। वरिष्ठ नागरिकों के लिए टिकट पर छूट भी है। वीकडे पर आपको टिकट 300-500 रुपये के बीच मिल सकता है और सप्ताहांत में इसके दाम दोगुने भी हो सकते हैं।

एलीफेंटा गुफाएं

मुंबई तट से सिर्फ 10 किलोमीटर दूर अरब सागर के बीच एक द्वीप पर यह गुफाएं स्थित हैं। यह गुफाएं 450 से 750 ईस्वी पुरानी हैं इनमें भगवान शिव की महिमा का चित्रण करती कई प्रतिमाएं हैं। गेटवे ऑफ इंडिया से इस द्वीप के लिए जेटी से नियमित मोटरबोट चलती है। इन गुफाओं को यूनेस्को ने विश्व विरासत घोषित कर रखा है।

औरंगाबाद

औरंगाबाद शहर अजंता और एलोरा के विरासत स्थलों के लिए मशहूर है। 29 चट्टानों के समूह को काट कर बने ये गुफा पर्वत इस देश में वास्तुकला की उपलब्धियों का प्रतीक हैं। अजंता के भित्ति चित्र और एलोरा की मूर्तियां और इस जगह की खूबसूरती आपको मंत्रमुग्ध कर देगी। इस शहर का नाम मुगल बादशाह औरंगजेब के नाम पर रखा गया है जिन्होंने डेक्कन पर राज करने के लिए इसे वाइसरिगल राजधानी बनाया। बादशाह ने यहां अपनी मां को श्रद्धांजलि देने के लिए बीबी का मकबरा बनवाया। यह मकबरा मशहूर ताज महल की नकल है। पनचक्की और दरवाज़े यहां बीते दिनों की शानदार वास्तुकला के उदाहरण के तौर पर मौजूद हैं।

गणपतिपुले

गणपतिपुले महाराष्ट्र का एक छोटा सा गांव है जिसमें खूबसूरत लंबे समुद्र तट हैं। गणपतिपुले नाम का तट इनमें सबसे सुंदर बीच है। सुनहरी धूप से सजे तट और हरियाली आपको गणपतिपुले की शानदार धरती से प्यार करने को मजबूर कर देंगे। यहां पर पानी के खेल की सुविधाएं भी उपलब्ध हैं। इसके अलावा तट पर भगवान गणपति का मंदिर भी है।

महाबलेश्वर, लोनावाला और खंडाला

ज्यादातर लोगों ने अगर वास्तविकता में नहीं तो टीवी पर ही सही, लेकिन महाराष्ट्र के हिल स्टेशनों की खूबसूरती देखी है। शुक्र है बाॅलीवुड और आमिर खान का कि मशहूर गाने के जरिये उन्होंने हर भारतीय के मन में खंडाला को बसा दिया। महाबलेश्वर अपने मंदिरों के लिए जाना जाता है और हनीमून के लिए भी यह जगह बहुत मशहूर है। यहां की साफ हवा, शांत वातावरण, सुंदर और शांत झील और शानदार झरने आपको शहर की हलचल से दूर आनंद की अनुभूति देते हैं।

पंचगनी

पांच पहाड़ों से घिरा पंचगनी धरती पर एक स्वर्ग है। यह जगह बहुत सुंदर है और आसपास का वातावरण बहुत शांत है। सैलानियों के बीच यह हिल स्टेशन बहुत मशहूर है। पंचगनी में आपको कई अमीर और मशहूर व्यक्तियों के फार्म हाउस मिल जाएंगे।

पेंच राष्ट्रीय उद्यान

सतपुड़ा पर्वत श्रृंखला के निचले दक्षिणी इलाके में 257 वर्ग किलोमीटर में फैले इस पार्क में विभिन्न प्रजातियों के वन्य जीवों को देखने का शानदार मौका मिलता है। पेंच में देखे जा सकने वाले वन्य जीवों में बाघ, तेंदुआ, चीतल, सांभर, बार्किंग डियर, नीलगाय, ब्लेक बक, गौर, जंगली भालू, चैसिंघा, स्लोथ बीयर, लंगूर, बंदर, माउस डियर, हाइना और गिलहरी आदि हैं।

शिर्डी

महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में शिर्डी शहर स्थित है। पूरी दुनिया से लोग श्री सांई बाबा की समाधि पर बने शिर्डी सांई मंदिर को देखने आते हैं। इस मंदिर के अलावा शनि मंदिर, नरसिंह मंदिर, कंडोबा मंदिर, साकोरी आश्रम और चांगदेव महाराज समाधि भी देखे जा सकते हैं।

पूणे झील

‘डेक्कन की रानी’ और ‘पूरब के ऑक्सफोर्ड’ के नाम से मशहूर महाराष्ट्र का पुणे शहर इसके समृद्ध ऐतिहासिक अतीत और आधुनिक चमकदार आकर्षण के लिए देखने लायक शहर है। पुणे के हरे भरे पर्वत और खूबसूरत झीलें यहां आने वाले सैलानियों के लिए यादगार रहती हैं।

महाराष्ट्र के आसपास पर्यटन स्थल

महाराष्ट्र राज्य पश्चिम में गुजरात, पूर्वोत्तर में मध्य प्रदेश, पूर्व में छत्तीसगढ़ और दक्षिण में कर्नाटक से घिरा है। यदि आपके पास समय हो तो इन सब जगहों की भी यात्रा जरुर करें। गुजरात राज्य में कई मंदिर और किले हैं और सैलानियों को अपनी ओर खींचते हैं। इनमें भावनगर का पालिताना मंदिर, अक्षरधाम मंदिर, सूर्य मंदिर और अन्य कई हैं। गुजरात का गिर जंगल भी विभिन्न प्रजाति के संरक्षित जानवरों के लिए मशहूर है।

आंध्र प्रदेश में तिरुमला वेंकटेश्वर मंदिर दुनिया में सबसे ज्यादा देखा जाने वाला मंदिर है। जोग वॉटरफॉल, बनेर्घट्टा और बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान और होयसला मंदिर कर्नाटक राज्य के प्रमुख पर्यटन स्थल हैं। हालांकि इन राज्यों में इन सब स्थानों के अलावा भी कई जगहें हैं जो इन राज्यों की मूल यात्रा करने पर आप देख पाएंगे।

लोकप्रिय स्थलों पर समुद्री विमान सेवा

एक अनोखी समुद्री विमान सेवा मेरीटाईम हैली एयर सर्विस प्राइवेट लिमिटेड और महाराष्ट्र के पर्यटन विभाग ने शुरु की है जिसमें राज्य के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल मुंबई के जुहू से जुड़ जाएंगे। जुहू और एम्बी वैली के बीच हवाई चार्टर सेवा 24 फरवरी 2014 को शुरु हुई थी। चार सीटों वाला सेसना 206 समुद्री विमान इस मार्ग पर इस सेवा के लिए तैनात किया गया है। इस यात्रा की लागत 4000-4500 रुपये के बीच आती है। हालांकि नरीमन पाईंट के लिए इस सेवा का खर्च 750 रुपये है।

इस फर्म और महाराष्ट्र पर्यटन विकास निगम ने पोर्ट ब्लेअर के बाद मुंबई को दूसरा ऐसा शहर बनाया है जिसमें यह समुद्री विमान सेवा चलाई गई है। पोर्ट ब्लेअर में यह सेवा जनवरी 2011 को शुरु की गई थी। परिवहन का यह नया रुप जुहू को लवासा, एम्बी वैली, नाशिक, पंचगनी और लोनावला से जोड़ेगा। यात्रा का समय बचाने में यह बहुत मददगार सेवा है। जुहू से इस सेवा के ज़रिए कहीं भी जाने में आधे घंटे का ही समय लगेगा। आशा है कि इस प्रोजेक्ट की वजह से और भी सैलानी इस ओर आकर्षित होंगे क्योंकि यह बहुत सुविधाजनक विकल्प है।

#slider

4 views

Subscribe to Our Newsletter

  • Facebook
  • Twitter
  • Instagram