• Kanika Chauhan

“एक रिश्ता…”

एक रिश्ता बनाया इन आंखो ने, मुझे दिल तक पहुंचाया इन आंखों ने… मैं याद करूं उन सपनों को, जिन्हें सच कर दिखाया इन आंखों ने… होठ तो अब तक हिले न थे, हाथ-हाथ से मिले न थे… चुपके से सब समझाया इन आंखों ने, धड़कन के साज बस बसे ही थे… सासों की लह संग रचे ही थे, प्यार का सुदंर गीत बनाया इन आंखों ने… इन आंखों का अब क्या कहना, बस इनमें है अब खोए रहना… हमें जीना सीखाया इन आंखों ने…!!

2 views

Subscribe to Our Newsletter

  • Facebook
  • Twitter
  • Instagram